नईदिल्ली: दिल्ली मेट्रो अब बिना ड्राइवर के दौड़ेगी. इस संबंध में दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन ने एक योजना तैयार की है. बताया जा रहा है कि इस योजना के तहत मई 2020 से पिंक (मजलिस पार्क से शिव विहार) और मजेंटा लाइन (बॉटेनिकल गार्डन से जनकपुरी पश्चिम) पर चलने वाली मेट्रो ट्रेन ड्राइवर लैस हो जाएगी. बताया जा रहा है कि यह ट्रेनें कम्यूनिकेशन बेस्ड ट्रेन कंट्रोल तकनीक पर काम करेंगी. यह तकनीक पुराने मेट्रो कॉरिडोर में प्रयोग में ली जा चुकी है, यह ज्यादा सुरक्षित और सुगम है.
रिपोर्ट के अनुसार सीबीटीसी तकनीक के प्रयोग से काफी फायदे होंगे. इसका सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि दो ट्रेनों के बीच की दूरी कम हो जाएगी. जिसके चलते कम समय में ही लोगों को ट्रेन मिल जाया करेंगी. साथ ही यह काफी सुरक्षित होगा.
डीएमआरसी के अधिकारियों के अनुसार अब मेट्रो में ड्राइवरों के स्थान पर रोमिंग अटेंडेंट होंगे. यह ट्रेन में एक कोने से दूसरे कोने तक घूमेंगे और यात्रियों को होने वाली परेशानियों का समाधान करेंगे. इसके साथ ही ये ट्रेन चलाने में भी कुशल होंगे और किसी भी आपात स्थिति में ट्रेन का पूरा कंट्रोल ये अपने हाथ में ले लेंगे.
डीएमआरसी के अधिकारियों के अनुसार यह कुछ वैसा ही होगा जैसे पहले एलिवेटर्स आए तो अटेंडेंट लोगों की मदद के लिए मौजूद होते थे. लेकिन बाद में लोगों का इस तकनीक पर विश्वास बढ़ा और अटेंडेंट्स को हटा लिया गया. कुछ ऐसा ही दिल्ली मेट्रो की ड्राइवर लैस सेवा में भी होगा. लोगों को इस तकनीक से फ्रैंडली करने के लिए अटेंडेंट्स मौजूद रहेंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here