प्रेग्नेंसी के दौरान अगर किसी तरह की कॉम्प्लिकेशन नहीं है तो ज्यादातर महिलाओं को ऐक्टिव रहने की सलाह दी जाती है ताकि डिलिवरी नॉर्मल हो सके और किसी तरह की कोई दिक्कत ना हो। प्रेग्नेंसी के दौरान गर्भवती महिलाओं को कुछ सावधानियां बरतते हुए एक्सर्साइज करने की भी सलाह दी जाती है ताकि मां के साथ-साथ होने वाला बच्चा भी हेल्दी रह सके। लेकिन एक सवाल जो ज्यादातर होने वाली मांओं के मन में आता है, खासकर तब जब वे फिटनेस फ्रीक हों, कि क्या गर्भावस्था के दौरान कार्डियो एक्सर्साइज करना चाहिए?
फिटनेस प्रफेशनल्स और एक्सपर्ट्स की मानें तो प्रेग्नेंसी के दौरान कार्डियो एक्सर्साइज करना पूरी तरह से सेफ है। ऐसा कार्डियो एक्सर्साइज जिसमें आपकी हार्टबीट सुरक्षित तरीके से बढ़ती है वह आपकी सेहत को बेहतर बनाने के साथ-साथ अच्छी नींद को बढ़ावा देता है, गर्भावस्था के दौरान होने वाले डायबीटीज की समस्या को कम करता है, कब्ज की दिक्कत को कम करता है और साथ ही कमर, पीठ और पैर में होने वाले दर्द को भी दूर करने में मदद करता है।
अपने शरीर की सुनें और नियमित रूप से ब्रेक लेती रहें
हालांकि एक्सपर्ट्स की मानें तो प्रेग्नेंट महिला को हमेशा इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि एक्सर्साइज से पहले, एक्सर्साइज के दौरान और एक्सर्साइज के बाद शरीर में कैसी फीलिंग आ रही है। खुद को हाइड्रेट रहें और नियमित रूप से ब्रेक लेते हुए एक्सर्साइज करें। अगर किसी भी तरह की दिक्कत महसूस हो तो एक्सर्साइज करना तुरंत बंद कर दें और डॉक्टर या एक्सपर्ट से सलाह लें।
डॉक्टर की सलाह के बिना कोई एक्सर्साइज न करें
वैसे तो ज्यादातर प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए गर्भावस्था के दौरान कार्डियो एक्सर्साइज करना सेफ माना जाता है लेकिन यह बेहद जरूरी है कि आप इसे ट्राई करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें कि यह आपके लिए ठीक है या नहीं। अगर आप जिम में जाकर कार्डियो एक्सर्साइज करती हैं तो किसी एक्सपर्ट या प्रफेशनल से सुझाव लें कि आपको किन बातों का ध्यान रखना है, खासकर प्रेग्नेंसी के 16वें हफ्ते के बाद।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here