नई दिल्ली: वीरवार 23 मार्च को लोकसभा चुनाव के परिणाम घोषित किए जाएंगे। जिसे लेकर जहां एक ओर सियासी गलियारों में चर्चाएं चल रही हैं, वहीं दूसरी ओर कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) ने एक आंकड़ा पेश किया है, जिसके मुताबिक इस साल मार्च में 8.14 लाख नए लोगों को नौकरियां मिली हैं, जबकि फरवरी में 7.88 लोगों को नौकरियां मिली थीं।
ईपीएफओ ने अप्रैल 2019 में जारी नौकरियों के आंकड़ों में मार्च 2018 के आंकड़ों में संशोधन किया था। इसमें नौकरियों के अवसरों में 55,934 की कमी दिखाई गई है। इस कमी के बारे में ईपीएफओ ने कहा कि मार्च के आंकड़े नकारात्मक इसलिए हैं कि माह के दौरान काफी सदस्य इससे बाहर हो गए हैं।
आंकड़ों के मुताबिक मार्च में सबसे अधिक नौकरियां 22 से 25 वर्ष के आयु के लोगों के लिए 2.25 लाख रोजगार के अवसर बने। वहीं 18 से 21 वर्ष आयु वर्ग में 2.14 लाख नए रोजगार के अवसरों का सृजन हुआ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here