वाशिंगटन: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पर एक बार फिर यौन उत्पीडऩ का आरोप लगाया है. यह आरोप एक कॉलमिस्ट ने लगाया है. कॉलमिस्ट ई जीन कैरल ने आरोप लगाया है कि 90 के दशक के मध्य में मैनहट्टन के एक डिपार्टमेंट स्टोर के ड्रेसिंग रूम में ट्रंप ने उनका यौन उत्पीडऩ किया. वहीं राष्ट्रपति ट्रंप ने इन आरोपों को खारिज किया है. ट्रंप की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि मैं कभी इस महिला से नहीं मिला.
महिला ने डोनाल्ड ट्रंप पर यह आरोप एक किताब वॉट डु वी नीड मेन फॉर? में लगाया है. कैरल का दावा है कि उन्होंने जीवनभर पुरुषों की हिंसा का सामना किया. हालांकि ट्रंप की ओर से जारी बयान के मुताबिक यह घटना कभी हुई ही नहीं.
कैरोल की नई किताब के एक अंश में और न्यूयॉर्क मैगजीन द्वारा शुक्रवार को प्रकाशित इस लेख में खुलासा किया गया है कि वह राष्ट्रपति बनने से पहले ट्रंप पर यौन दुर्व्यवहार का आरोप लगाने वाली कम से कम 16वीं महिला हैं.
कैरल ने लिखा कि 1995 या 1996 में बर्गडॉर्फ गुडमैन में ट्रंप के साथ एक दोस्त के रूप में आमना-सामना होने के बाद ट्रंप ने उसे ड्रेसिंग रूम की दीवार पर धक्का दिया, अपनी पैंट उतार दी और सारा जोर उस पर लगा दिया. कैरल ने कहा कि भारी संघर्ष में उन्होंने ट्रंप को धक्का दिया और स्टोर से भाग गई.
वहीं अपने बयान में ट्रंप ने इस आरोप को फेक न्यूज करार दिया और कहा कि कोई सबूत नहीं है. ट्रंप ने कहा- कोई टिप्पणी नहीं? कोई सर्विलांस नहीं? कोई वीडियो नहीं? कोई रिपोर्ट नहीं? आसपास कोई सेल्स अटेंडेंट नहीं. मैं इस बात की पुष्टि करने के लिए बर्गडॉर्फ गुडमैन को धन्यवाद देना चाहूंगा कि उनके पास ऐसी किसी भी घटना का कोई वीडियो फुटेज नहीं है, क्योंकि ऐसा कभी नहीं हुआ.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here