नईदिल्ली: दिल्ली के तुगलकाबाद में हिंसा फैलाने का मामला में कुल 91 लोग गिरफ्तार हुए हैं। इसमें भीम आर्मी के चीफ चन्द्रशेखर आजाद को भी गिरफ्तार किया गया है। चन्द्रशेखर आजाद पर दंगा फैलाना, सरकारी और निजी संपत्ति को नुकसान पहुंचाना, आगजनी करना और पुलिसकर्मियों पर हमला करने का आरोप है। इस घटना में 15 से ज्यादा पुलिसकर्मी भी घायल हो गए। सभी आरोपियों को आज साकेत कोर्ट में पेश किया जाएगा। दक्षिण-पूर्वी दिल्ली के तुगलकाबाद और उसके आसपास के इलाकों में बुधवार को बड़े पैमाने पर हिंसा हुई। उपद्रवियों ने 100 से ज्यादा वाहनों में तोडफ़ोड़ की जिनमें से कुछ गाडिय़ां पुलिस की हैं और कुछ आम लोगों की हैं। संत रविदास का मंदिर गिराए जाने का विरोध कर रहे लोगों ने दो बाइकों में आग भी लगाई। इस प्रदर्शन से लोगों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़। सडक़ों पर काफी जाम देखने को मिला, स्कूली बस, एंबुलैंस सहित कई बड़े वाहन जाम में फंसे रहे। स्कूली बच्चों को काफी परेशानी झेलनी पड़ी।
प्रदर्शनकारियों उग्र होने पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया और आंसू गैस के गोले छोड़े। पुलिस ने भीम आर्मी और दलित समाज से जुड़े 70 से ज्यादा लोगों को हिरासत में लिया है। भीम आर्मी के चीफ चंद्रशेखर आजाद को भी हिरासत में ले लिया गया है। बता दें कि संत रविदास मंदिर को तोडऩे के विरोध में यह हिंसा हुई। पुलिस के मुताबिक, भीम आर्मी के चीफ चंद्रशेखर आजाद ने तुगलकाबाद के रविदास मंदिर को तोडऩे को लेकर जारी विवाद के बीच दिल्ली के जंतर मंतर में रैली करने की अनुमति मांगी थी। उनसे जंतर-मंतर पर रैली की अनुमति नहीं दी गई और रामलीला ग्राउंड में रैली करने के लिए कहा गया।
बुधवार को रैली करने के बाद लोग मार्च करते हुए तुगलकाबाद की तरफ निकल पड़े। हजारों की संख्या में चल रहे लोगों को कई बार समझाया गया लेकिन वे नहीं माने। इसके चलते कई इलाकों में लंबा ट्रैफिक जाम लग गया। कई जगहों पर एम्बुलेंस फंसी रहीं। जैसे ही प्रदर्शनकारी तुगलकाबाद के नजदीक पहुंचे उन्होंने पुलिस और अर्धसैनिक बलों पर पथराव शुरू कर दिया और फिर वाहनों में तोडफ़ोड़ करने लगे। उन्होंने कुछ बाइकों में आग लगा दी। पुलिस ने भीड़ को तितर बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े और हल्का लाठी चार्ज किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here