देश में कोरोना मरीजों के मामले लगातार बढ़ रहे है। कोरोना के इलाज के लिए लगातार नई दवाओं का ट्रायल किया जा रहा है। गंभीर मरीजों की जान बचाने के लिए ICMR की अनुमति के बाद प्लाज्मा थैरेपी (Plasma Therapy) को भी मरीजों को दिया गया है। अब तक प्लाज्मा थैरेपी के बेहतर नतीजे सामने आए हैं। इसके बाद दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने बड़ा कदम उठाते हुए सूबे में देश का पहला प्लाज्मा बैंक बनाने का निर्णय लिया है। अगले दो दिनों में यह बैंक शुरू हो जाएगा। सोमवार को सीएम अरविंद केजरीवाल ने डिजीटल प्रेस कांफ्रेंस के दौरान यह जानकारी दी है।

देश का पहला प्लाज्मा बैंक बनेगा

दिल्ली सरकार द्वारा प्लाज्मा डोनेट करने वाले लोगों के लिए हॉटलाइन नंबर जारी किया जाएगा। इसके साथही उनके लिए ट्रांसपोर्ट की व्यवस्था भी सरकार की ओर से की जाएगी। प्लाज्मा बैंक दिल्ली के ILBS हॉस्पिटल में बनाना तय किया गया है। यह बैंक सरकारी और प्राइवेट हॉस्पिटल में भर्ती सभी मरीजों के लिए होगा

गौरतलब है कि LNJP हॉस्पिटल में पिछले कुछ दिनों में 35 मरीजों को प्लाज्मा थैरेपी दी गई थी, इसमें से 34 मरीजों की जान बच गई है। ऐसे में इस थैरेपी के बेहतर नतीजों को देखते हुए सरकार द्वारा यह कदम उठाया गया है।

यह है प्लाज्मा थैरेपी

प्लाज्मा थैरेपी में कोरोना मरीज को अन्य किसी कोरोना संक्रमित मरीज के ब्लड से निकला प्लाज्मा चढ़ाया जाता है जो ठीक हो चुका है। मरीज के ठीक होने से उसके खून में कोरोना एंटीबॉडीज बन जाते हैं। यही एंटीबॉडीज बीमार मरीज के शरीर में जाकर कोरोना से ल़ड़ने में सहायक सिद्ध होते हैं और मरीज ठीक हो जाता है।

गौरतलब है कि देश के कई राज्यों में प्लाज्मा थैरेपी की अनुमति दी गई है। इसके सभी राज्यों से सामने आए अब तक के नतीजे काफी उत्साह बढ़ाने वाले हैं। हाल ही में दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन को भी कोरोना संक्रमण हो गया था जो काफी बढ़ गया था। इसके बाद उन्हें प्लाज्मा थैरेपी दी गई थी जिसके बाद वह पूरी तरह स्वस्थ्य हो गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here