भोपाल। पुलिस आरक्षक के 4269 पदों पर भर्ती की जाएगी। पुलिस मुख्यालय इस बारे में जल्द प्रक्रिया शुरू करे। यह निर्देश गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पुलिस महानिदेशक विवेक जौहरी को दिए हैं। गृह मंत्री मिश्रा शुक्रवार को पुलिस मुख्यालय में आयोजित समीक्षा बैठक में शामिल होने पहुंचे थे। उन्होंने कहा कि आर्मी अस्पताल की तर्ज पर पुलिस कर्मियों के लिए भी अस्पताल शुरू किया जाएगा। अब तक प्रदेश में पुलिस का कोई अस्पताल नहीं है।

यह प्रदेश का पहला अस्पताल होगा जो पूरी तरह पुलिस को समर्पित होगा। इस संबंध में उन्होंने पुलिस मुख्यालय से प्रस्ताव देने के लिए कहा है। मिश्रा ने पुलिस विभाग में आरक्षकों के रिक्त पदों की फाइल मंत्रालय से बुलाकर बैठक में ही स्वीकृति प्रदान की। इसे कैबिनेट से पहले ही स्वीकृति मिल चुकी है। पुलिस महकमे में पिछले तीन साल से आरक्षक भर्ती की प्रक्रिया रुकी हुई थी।

साइबर अपराधों ने निपटने के लिए इस्तेमाल होगी उन्नत तकनीक

गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने अपराधों के बदलते तौर तरीकों से निपटने के लिए तकनीक को और उन्नत करने की आवश्यकता जताई। उन्होंने साइबर क्राइम कन्ट्रोलिंग टेक्नीक और सोशल मीडिया सेल को सशक्त करने के लिए आवश्यक प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दिए। गृहमंत्री ने कहा कि यदि पूर्व से प्रक्रिया प्रचलन में है तो उसकी प्रगति से शीघ्र अवगत कराया जाना सुनिश्चित करें। पुलिस आधुनिकीकरण के लिए आवश्यक बजटीय प्रावधान के लिए पुलिस महानिदेशक के साथ मिलकर वित्त विभाग से चर्चा की जाएगी। बैठक में गृह मंत्री डॉ. मिश्रा द्वारा केन्द्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल का हेड क्वाटर सिंगरौली से भोपाल किये जाने, भोपाल की फायरिंग रेंज को बालमपुर की नवीन फायरिंग रेंज में स्थानान्तरित करने के लिये आवश्यक बजटीय स्वीकृति, प्रदेश में पुलिस बल बढ़ाये जाने के लिये गृह मंत्रालय से स्वीकृति प्राप्त किये जाने के लिये आवश्यक कार्यवाही हेतु सैद्धांतिक स्वीकृति प्रदान की गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here