भोपाल भोपाल के नेशनल लॉ इंस्टीट्यूट यूनिवर्सिटी के छात्रों ने प्रोजेक्ट ‘सारथी’ शुरू किया है। विधिक सहायता केंद्र के साथ मिलकर शुरू किए गए इस प्रोजेक्ट का मकसद जरूरतमंद लोगों को मुफ्त में विधिक सहायता उपलब्ध कराना है। इसके लिए एनएलआइयू के छात्रों ने बाकायदा कार्यकारिणी का गठन किया है। यह कार्यकारिणी विधिक सहायता उपलब्ध कराने का काम करेगी। इसके लिए छात्रों ने हेल्पलाइन भी शुरू कर दी है। जरूरतमंद लोग इस हेल्पलाइन के जरिए भी विधिक सहायता ले सकेंगे। छात्र जरूरतमंद का संपर्क योग्य अधिवक्ताओं से भी कराएंगे जिससे उन्हें अच्छी विधिक सहायता मिल सकेगी। छात्रों ने इसके लिए 30 अधिवक्ताओं का पैनल तैयार किया है। इनमें सुप्रीम कोर्ट से लेकर हाईकोर्ट और जिला कोर्ट तक के अधिवक्ता शामिल हैं।

एनएलआइयू के छात्रों ने हेल्पलाइन का नंबर 6264877355 जारी किया है। इस नंबर पर कोई भी सोमवार से शनिवार के बीच सुबह 11 से शाम 6 बजे तक फोन कर सकेगा। छात्रों ने विधिक सलाह को तीन चरणों में बांटा है। पहले चरण में घरेलू हिंसा को रखा गया है। इसमें ऐसे लोगों को सलाह दी जाती है जिनके बीच आपस में ही घर में विवाद हो रहे हैं। इन्हें सलाह के साथ समझाइश भी दी जाती है। इसी तरह दूसरे चरण में मध्यस्था की जाती है। कोई भी जरूरतमंद जब हेल्पलाइन में संपर्क करता है तो उसका पूरा मामला लिखा जाता है।

फिर छात्र उस मामले पर आपस में चर्चा करते हैं। फिर मामला जिस अधिवक्ता से संबंधित होता है उसे भेज दिया जाता है। 48 घंटे के भीतर जरूरतमंद को सलाह उपलब्ध करा दी जाती है। इसी तरह मानसिक रूप से परेशान लोगों को सलाह भी दी जा रही है। इसके लिए केंद्र सरकार के सामाजिक न्याय विभाग के जरिए काउंसलरों की सूची तैयार की गई है। यह भी पूरी तरह से मुफ्त कॉउंसिलिंग करते हैं।

जरूतमंदों को खासकर गरीब वर्ग के लोगों को मुफ्त विधिक सलाह देने के लिए प्रोजेक्ट सारथी शुरू किया गया है। आर्थिक जरूरत होने पर एनएलआइयू मदद करता है। कुछ मामलों में छात्र भी अपने स्तर पर रुपये एकत्रित कर लेते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here