रायपुर। छत्तीसगढ़ में सबसे अधिक उम्र का संक्रमित कोरोना को मात देकर घर लौट गया है। एम्स प्रबंधन ने बताया कि रायपुर के कोविड-19 वार्ड में एडमिट भिलाई के 89 वर्षीय बुजुर्ग को ठीक होने के बाद डिस्चार्ज कर दिया गया। वह छत्तीसगढ़ का सबसे बुजुर्ग कोविड-19 मरीह है, जिसने कोरोना वायरस से पीड़ित रोगियों को जीवन की एक नई राह दिखाई है। प्रबंधन ने बताया कि पीड़ित का 29 जून को कोविड-19 टेस्ट पॉजीटिव आने के बाद दो जुलाई को उसे एम्स में एडमिट किया गया था। चिकित्सकों की निरंतर निगरानी में उसे आइसीएमआर की गाइड लाइन के अनुसार उपचार प्रदान किया गया। आठ जुलाई को उसके दो सैंपल नेगेटिव आने के बाद डिस्चार्ज कर दिया गया।

डिस्चार्ज होकर घर लौटने के दौरान उसने लोगों को संक्रमण से डरने नहीं, बल्कि एहतियात बरतने की अपील की है। चिकित्सकों ने बताया कि कोरोना 60 वर्ष से अधिक उम्र के मरीजों के लिए अधिक घातक होता है। फिर भी एम्स से इस आयु वर्ग के कई रोगी ठीक होने के बाद डिस्चार्ज किए जा चुके हैं। कई मामलों में कोरोना के साथ अन्य बीमारी होने के बावजूद कई बुजुर्ग रोगी ठीक हो चुके हैं। ऐसे में 89 वर्षीय बुजुर्ग रोगी का डिस्चार्ज होना चिकित्सकों का मनोबल और अधिक बढ़ाएगा। उन्होंने कहा कि यदि धैर्य से इलाज किया जाए और चिकित्सकों की सलाह के अनुरूप दवा ली जाए तो कोविड-19 से पीड़ित रोगी अधिक आयु में भी ठीक हो सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here