बिलासपुर। Bilaspur News: प्रदेश में सत्ता परिवर्तन के बाद से उज्ज्वला की लौ फीकी पड़ने लगी है। गरीबो की रसोई से गैस चूल्हा और सिलेंडर गायब हो गया है। मिट्टी के चूल्हे का जमाना एक बार फिर लौट आया है। दरअसल राज्य में सत्ता परिवर्तन होते ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की महत्वाकांक्षी योजना पीएम उज्ज्वला योजना को बंद कर दिया गया है।

राज्य सरकार ने उज्जवला योजना का अनुदान बंद कर दिया है। देश में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकार बनने के बाद पीएम उज्जवला योजना की शुरुआत कर एक क्रांतिकारी कदम उठाया गया। इस योजना को लागू किए जाने से एक तरफ जहां वृक्षों और वनों की अंधाधुँध कटाई पर रोक लगी, वहीं दूसरी तरफ माताओं-बहनों के स्वास्थ्य पर अच्छा असर पड़ा और उनके समय की भी बचत होने लगी।

तत्कालीन भाजपा सरकार द्वारा इस योजना के तहत प्रत्येक हितग्राही को गैस चूल्हे व पहली रिफलिंग के लिए 1400 रुपये का अनुदान दिया जाता था, किन्तु सत्ता परिवर्तन के बाद राज्य की कांग्रेस सरकार ने इस योजना के लिए अनुदान जारी करना बंद कर दिया है। इसके कारण पेट्रोलियम कंपनियां इस योजना को लागू करने व अमल में लाने में हीला-हवाला कर रहीं हैं। नतीजतन पात्र हितग्राहियों को भी योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है।

13 महीने से रुका अनुदान

उज्जवला योजना के तहत चूल्हा व पहली रिफलिंग के लिए 1400 रुपये प्रति व्यक्ति की दर से दिए जाने वाले अनुदान को राज्य सरकार ने बीते 13 महीने से रोक रखा है।

तीन योजनाओं की राशि से संचालित हो रही थी योजना

भाजपा सरकार ने इस योजना के तहत खनिज न्यास संस्थान, केंपा व श्रम विभाग के मद से 2016-17 में जिले के 73 हजार 250 परिवारों को गैस कनेक्शन देने अनुदान दिया था। इसी तरह 2017-18 में 59 हजार 623 परिवारों एवं 2018-19 में 72 हजार 163 परिवारों को गैस कनेक्शन दिया गया है। इसके लिए डीएमएफ से 16 करोड़ स्र्पये जारी किए गए थे।

*वर्ष 2016-17 में तय लक्ष्य- 73 हजार 250 हितग्राही

*कनेक्शन मिला-शत-प्रतिशत हितग्राही

*वर्ष 2017-18 में तय लक्ष्य- एक लाख 33 हजार 729 हितग्राही

*कनेक्शन मिला- 59 हजार 623 हितग्राहियों को

*वर्ष 2018-19 में तय लक्ष्य- एक लाख 41 हजार 48

*अब तक का आंकड़ा – 72 हजार 163 हितग्राही

इन फंडों का हुआ उपयोग

*डीएमएफ से 16 करोड़ स्र्पये से एक लाख 10 हजार 725 हितग्राहियों को दिया गया कनेक्शन

*कैंपा और श्रम विभाग से 80 हजार 285 हितग्राहियोें को दिया गया कनेक्शन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here