मुंबई। महाराष्‍ट्र एटीएस ने विकास दुबे केस में उसके करीबी दो लोगों को ठाणे से गिरफ्तार किया गया है। इनमें से एक गु्ड्डन त्रिवेदी 25 हजार रुपए का इनामी बदमाश है और दूसरा सोनू तिवारी है, जो गुड्डन का ड्राइवर बताया जा रहा है। यह जानकारी महाराष्‍ट्र एटीएस ने दी है। बताया जा रहा है कि गुड्डन त्रिवेदी और सोनू तिवारी ने हाल ही में उत्तर प्रदेश के कानपुर जिले में आठ पुलिसकर्मी और 2001 में राज्य मंत्री का दर्जा प्राप्त संतोष शुक्ला की हत्या में शामिल होने की बात कबूल की है।

महाराष्ट्र एटीएएस ने बताया कि मुंबई पुलिस को एक गुप्त सूचना मिली थी कि कानपुर एनकाउंटर मामले में शामिल एक आरोपी ठाणे में छिपा हुआ है। एटीएस जूहू यूनिट ने कोलशेट रोड पर छापा मारकर आरोपी अरविंद उर्फ ‘गुड्डन रामविलास त्रिवेदी’ और उसके ड्राइवर सोनू तिवारी को गिरफ्तार कर लिया। शुरुआती जांच से पता चला है कि गुड्डन विकास दुबे के साथ कई आपराधिक मामलों में शामिल था।

बताया जा रहा है कि कानपुर में दो जुलाई की रात को आठ पुलिसकर्मियों पर घात लगाकर हमले करने के बाद गुड्डन अपना फोन गांव के पास एक दुकान पर छोड़ कर अपने ड्राइवर के साथ मध्य प्रदेश के दतिया चला गया। यहां से गुड्डन नासिक और वहां पुणे होते हुए अंत में ट्रकों के जरिए ठाणे पहुंचा। यहां गुड्डन गांव में अपने एक दोस्त के घर पर ठहरा और कानपुर एनकाउंटर के बाद की स्थिति और पुलिस की कार्रवाइयों का जायजा लेने के लिए खबरें देखता रहा।

बताते चलें कि गुड्डन वहां दहशत में था। परिवार के लोग चाहते थे कि गुड्डन घर छोड़कर चला जाए, लेकिन उसके खौफ की वजह से कह नहीं पाए। जब परिवार के लोगों को पता चला कि कानपुर कांड के आरोपियों को शरण देने वालों को भी पुलिस गिरफ्तार कर रही है, तो गुड्डन को शरण देने वाले परिवार के लोग भी दहशत में आ गए। बताते चलें कि कानपुर में बिल्हौर सीओ समेत आठ पुलिसकर्मियों की आठ दिन पहले अपने गांव बिकरू में अंधाधुंध गोलियां बरसाकर हत्या करने वाले पांच लाख के आरोपी विकास दुबे को आठवें दिन ही पुलिस और एसटीएफ की टीम ने मार गिराया।

हिस्ट्रीशीटर को गुरुवार मध्य प्रदेश के उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर परिसर से गिरफ्तार किया गया था। वहां से कोर्ट में पेशी के लिए लाते वक्त कानपुर शहर से पहले ही सचेंडी के पास विकास दुबे का एनकाउंटर कर दिया गया। उत्तर प्रदेश एसटीएफ के साथ केंद्र सरकार के प्रवर्तन निदेशालय ने उसके काले कारोबार की जांच शुरू कर दी है। उसकी संपत्तियों के साथ ही उसको संरक्षण देने वाले और उसके पैसों का निवेश करने वालों की भी तलाश की जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here